Open source और Closed source software में अंतर (हिंदी)

Open source vs Closed source software
Open source और Closed source software में अंतर (हिंदी)

हेल्लो दोस्तों, Open source और Closed source software कंप्यूटर users के लिए दो बहुत ही बड़े terms हैं क्यूंकि software का भण्डार बस दो भागो में ही बिभाजित है चाहे वो Operating System हो, साधारण सा software हो या कोई game हो सभी सिर्फ दो हो तरह के होते हैं Open Source या Closed source। अगर आप कंप्यूटर सिखने में रूचि रखते हैं तो आपको भी इनके बारे में जानना चाहिये.. आज की इस पोस्ट में हम इसी बारे में बात करेंगे की Open source और closed source software में क्या अंतर है तो बिना समय गवाए आइये बात करते हैं इनके बारे में।




Open Source software क्या है?

Opne Source software क्या है इस बारे में हम पहले भी detail में जान चुके हैं अगर आप चाहे तो लिंक पर क्लिक करके pad सकते हैं। दोस्तों, open source software का हिंदी में मतलब होता है मुक्त स्रोत software यानी ऐसा software जिसका स्रोत यानी Source code सबके लिए open यानी खुला हो उसे open source software कहते हैं लेकिन आजकल open source software का मतलब सिर्फ यही तक सिमित नहीं रह गया है Open source initiative के अनुशार किसी software को पूरी तरह से open source तभी कहा जा सकता है जब वह निर्धारित किये गए कुछ नियमो का पालन करता है जिनमे software का source code सभी के लिए open होने के साथ-साथ free होना भी जरूरी है लेकिन यहाँ पर यह बात ध्यान में रखने वाली है की हर free। जैसे Linux, GNU Image Manipulation Program (GIMP)


Closed source software क्या है?

Closed source software को proprietary भी कहा जाता है ये ऐसे software होते हैं जो नातो free होते हैं और नाही इनका source code सबके लिए open होता है। basically proprietary का मतलब ही मालिकाना चीजों से हैं जिन software के लिए हम पैसे देते हैं और licensing करवाते हैं वे सभी closed source ही होते हैं लेकिन ये बिलकुल भी जरूरी नहीं है की हर Closed source software के लिए आपको पैसे देने पड़ें क्यूंकि कई सारे Closed source software भी free होते हैं। जैसे Windows, Adobe Photoshop


Open source और Closed source software में अंतर


Open Source और Closed source software में key differences कुछ इस प्रकार हैं।

यहाँ पर हम दोनों तरह के software के Pros और Cons के बारे में बात करेंगे क्यूंकि दोनों की कुछ अच्छी बाते हैं तो कुछ बुरी बाते भी हैं जिनके बारे में हमे पता होना चाहिए।

#1. Costs

अगर बात करें cost यानी कीमत की तो यहाँ पर Open source का नाम ही सबसे ऊपर निकल कर आता है क्यूंकि ये बिलकुल free होते हैं और इनके लिए आपको कोई कीमत नहीं चुकानी पड़ती जो की एक open source के सबसे बड़े फायदों में से एक है। हालाँकि काफी सारे closed source software भी free होते हैं लेकिन ये इतने ख़ास भी नहीं होते।

इन सभी चीजों से हट कर बात करें तो अगर आपकी खुद की एक कंपनी हैं और उसमे आपको Open source software इस्तेमाल करना है तो आपकी कंपनी में उस software के experts और technicians होने चाहिए जबकि closed source software में क्योंकी आप पैसे देते हैं इसलिए आपको free तकनिकी हेल्प provide की जाती है।



#2. Support






अगर बात करें सपोर्ट की तो Open source software अगर पोपुलर हुआ तो ही सपोर्ट की उम्मीद की जा सकती है क्युकी अगर software पोपुलर नहीं है तो उसमे आपको थोड़ी बहुत दिक्कतों का सामना करना pad सकता है और बही अगर closed source software अगर free है तो सपोर्ट काफी मुस्किल है लेकिन अगर paid है तो सपोर्ट को लेकर चिंता करने के कोई जरूरत नहीं है क्यूंकि आपने software के लिए पैसे दिए हैं इसलिए आपको सपोर्ट तो मिलेगा ही।

Support और service ही proprietary software के सबसे बड़े benefits में से एक है जिसमे आपको कई तरह से experts का सपोर्ट मिल जाता है हालाँकि Open source software में भी आपको सपोर्ट को लेकर इतनी ज्यादा चिंता करने के जरूरत नहीं है।


#3. Community

Community की बात करें तो open source में आपको Community का बहुत ही अच्छा सपोर्ट मिलता है क्यूंकि इसमें दुनिया भर से developers जुड़े होते हैं इसलिए आपको हेल्प लेने में कोई दिक्कत नहीं होती इनकी कम्युनिटी पर दिन व दिन लोग जुड़ते ही रहते हैं इसलिए open source में कम्युनिटी सपोर्ट के बारे में tension की कोई बात ही नहीं होती।

वाही अगर closed source के तरह देखा जाए तो आपको यहाँ भी कम्युनिटी मिल जाती है लेकिन इसके source के बारे में ज्यादा जानकारी ना होने की बजह से Open source की तरह strong community सपोर्ट नहीं मिल पाता।




#4. Updates

Updates की बात करें तो Open source और closed source दोनों ही पीछे नहीं है Updates आपको Open source में भी समय पर मिल जाते हैं और closed source में भी और सोनो में ही updates के साथ-साथ नए नए features और Improvements भी आते रहते हैं।


#5. Freedom






इसके बारे में बात करने से पहले आपका यहाँ यह जानना जरूरी है की यहाँ पर freedom का मतलब क्या है, दोस्तों freedom का एक software में सिंपल सा मतलब है और वो यह है की उस software को आप कितना अपने हिसाब से या अपनी जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल और customize कर सकते हो।

अगर सीधे सीधे बात करें तो आपको freedom नाम की चीज़ केवल open source में है देखने को मिलती है जिसे आप अपनी जरूरत के हिसाब से कैसे भी customize कर सकते हैं लेकिन यहाँ पर ध्यान में रखने वाली बात यह है की यह सब करना हर किसी के बस की बात नहीं होती क्यूंकि ये सब Programmers और experts के लिए ही होता है इसलिए यहाँ freedom का एक normal user के लिए कोई मतलब नहीं होता।




दोस्तों, इस लेख में हमने बात की Open source और Closed source software में अंतर (हिंदी) के बारे में। हमें पूरी उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख पसंद आया होगा और Open Source software और closed source software के बारे में काफी चीज़े सिखने को मिली होंगी। इस लेख को लिखने के लिए हमने काफी जगहों से जानकारी इकट्ठा की लेकिन फिर भी इसमें हमसे कोई जानकारी छूट गयी है या कुछ गलत हुआ है तो निचे कमेंट करके जरूर बताएं। और अगर आपको लगता है की इसमें कुछ ऐसी जानकारी भी है जो आपके दोस्तों के काम आ सकती है तो इसको उनके साथ भी जरूर शेयर करें जिससे उन्हें भी कुछ जानने को मिले। और इसी तरह की और भी जानकारी पाने की लिए हमें सोशल मीडिया पर भी जरूर follow करें।

इसके अलावा अगर आप किसी तरह की जरूरी जानकारी भेजना चाहते हैं तो हमारे contact us page पर जाएं।

Tags :- open source or closed source में अंतर, open source vs closed source software Hindi

👉 अगर आप कंप्यूटर के बारे में और भी जानना चाहते है तो आप इन सारी posts को एक बार जरूर देखें मुझे उम्मीद है की आपको इनसे काफी कुछ जानने को मिलेगा।
🔰


इस पेज का PRINT या PDF DOWNLOAD करने के लिए यहाँ क्लिक करें 👉  

कोई टिप्पणी नहीं