Internet के बारें में कुछ रोचक तथ्य (Facts) ।

internet facts
Internet के बारें में कुछ रोचक तथ्य (Facts) ।

Internet हमारी जिन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा बन गया है हम सब अपना ज्यादातर टाइम internet पर ही बिताते है। internet के बिना जीना नामुनकिन सा लगता है

internet की पहुँच हर तरफ है यह हर जगह फैला हुआ है आजकल ज्यादातर काम भी internet से ही होते है जैसे किसी को पैसे भेजना हो कुछ खरीदना हो किसी से बात करनी हो सब कुछ internet से हो जाता है इसीलिए आज हम इसी internet की कुछ ख़ास बाते या कुछ तथ्यो (facts) के बारे में जानेंगे।





Internet के प्रकार


पूरे internet को तीन भागो में बाटा गया है Deep web, Dark web और Surface web हम जो internet use करते है उसे Surface web कहते है

हम जो भी चीज़े जैसे Google, Facebook, gmail, Yahoo या और कुछ भी सर्फ करते है या फिर यू कहे हम जो भी google या दुसरे सर्च इंजन पर देखने को मिलत है उसे Surface web कहते है ये देखने में बहुत बड़ा लगता है लेकिन ये पूरे internet का सिर्फ 5 प्रतिशत हिस्सा है

बाकी का 95 प्रतिशत हिस्सा deep web और dark web है। Deep web normally बो websites होती है जो google या बाकी सभी सर्च इंजन पर इंडेक्स नहीं होती इनमे किसी की पर्सनल जानकारी किसी कंपनी के दस्ताबेज या सरकार की कुछ खुफिया जानकारी रखी होती है जो बहुत ही खुफिया होती है।

अब बारी आती है dark web की dark web internet का बो काला हिस्सा है जहाँ हर तरह की illigal और गलत एक्टिविटी होती है deep web से जुड़ना ही नहीं deep web सर्फ करना भी illigal है

इसी deep web का एक और छोटा सा हिस्सा है marianas web जिसे बहुत कम लोग जानते है इस marianas web में क्या रखा हुआ है कोनसी जानकारी इसमें बंद है आज तक कोई नहीं जान पाया है

बड़े से बड़ा हैकर marianas web के आगे फ़ैल हो जाता है इसका नाम marianas web दुनिया के सबसे गहरे समुद्र marianas ट्रेंच से रखा गया है क्योंकि जैसे mariana ट्रेच की गहराई तक कोई नहीं पहुच पता बैसे ही marianas web को सर्फ करना impossible है।



Internet कैसे काम करता है?




Internet पर लगभग सभी तरह की जानकारी मौजूद है हमे जानकारी चाहिए होती हम उसे google पर सर्च करते है और बो जानकारी सीधे हमारे पास आ जाती है

हमें उसके लिए कुछ मेहनत नहीं करनी पड़ती सिर्फ टाइप करना होता है और सिर्फ कुछ ही सेकंड में जानकारी हमारे पास लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की सारी जानकारी हमारे पास आती कैसे है कैसे सिर्फ कुछ ही पालो में internet से इतनी सारी जानकारी हमारे फ़ोन या फिर लैपटॉप में आ जाती है।

आपके पास जो जानकारी आती है जाहीर सी बात है आपके फ़ोन में तो रहती नहीं है बो जानकारी आती है कही दूर रखे किसी server से server कुछ नहीं बस आपके कंप्यूटर के जैसा ही एक कंप्यूटर ही है जो जानकारी देने का काम करता है इसलिए उसका नाम server रखा गया है

अब इन servers से डाटा के आने का प्रोसेस भी छोटा नहीं होता ये डाटा servers से फाइबर ऑप्टिक्स या किसी और कनेक्शन से Tier I Internet service provider तक आता है उसके बाद Tier I ISP इसको Tier II ISP के पास भेजती है अब Tier II ISP इस डाटा को समुद्र के निचे बिछे फाइबर ऑप्टिक्स के द्वारा भेजेगा

बापस इसको दुसरे तरफ के ISP इसी तरह से recieve करेंगे तब जाकर यह डाटा आपके पास आकर पहुचेगा और यह काम इतना जल्दी होता है की हमे तो पता भी नहीं चलता यहाँ तक की यह जो आप post पड़ रहे हो इसको आप तक आने में भी यही प्रोसेस लगी है।



internet का इतिहास | History of internet


आज से बस 40 साल पहले internet नाम की कोई चीज़ नहीं हुआ करती थी internet की सुरुआत सन 1969 में अमेरिकी रक्षा बिभाग और UCLA द्वारा standford Lab में किया गया

उस ज़माने में कोई youtube, facebook या twitter नहीं हुआ करता था हालाँकि आम लोगो के लिए internet अभी भी नहीं आया था असली internet तो सन 1989 में आया था जब टीम बर्नर ली ने वर्ल्ड वाइड वेब बनाया इसके बाद internet का विकास इतना हुआ की आजकल internet लोगो के हाथो में है|

The internet
Source


उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और इस बारे में काफी कुछ जानने को मिला होगा अगर यह पोस्ट आपको कुछ काम की लगी है तो इसे शेयर करना ना भूलें हो सकता है आपकी शेयर की गयी जानकारी किसी के काम आ जाए।

अगर आपके कोई सवाल या शुझाव है तो कमेंट में जरूर बताएँ हमें ख़ुशी होगी उनका जवाब देकर।


2 टिप्‍पणियां: